Shuddhi Panchakarma Ayurveda Hospital is now HIIMS (Hospital & Institute Of Integrated Medical Sciences). For more details contact at 82704 82704

Kidney Failure

मानव शरीर में किडनी एक बहुत ही महत्वपूर्ण अंग है। किडनी के ठीक से काम न करने से हमारा शरीर ठीक से काम नहीं कर पाता है। बदलते लाइफस्टाइल की वजह से लोगों में किडनी की समस्या पहले से ज्यादा पनपने लगी है। पिछले कुछ वर्षों में, लोगों में किडनी फेलियर की बीमारी बढ़ रही है। इस बीमारी का अगर समय पर इलाज न किया जाए तो यह जानलेवा हो सकती है। एक बार जब कोई व्यक्ति किडनी फेलियर से पीड़ित हो जाता है, तो उसे नियमित डायलिसिस प्रक्रिया के लिए जाना पड़ता है।

Read More
For Immediate Assistance : hiims@jeenasikho.co.in / +91 82704 82704

Get Consultation

किडनी रोग

किडनी की बीमारी आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है। किडनी की बीमारी होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। मधुमेह, उच्च रक्तचाप, सूजन और संक्रमण, गुर्दे की बीमारी के पीछे कुछ कारण हैं। आयुर्वेद के साथ, आप गुर्दे के कामकाज को प्रभावी ढंग से मजबूत और बढ़ा सकते हैं। आयुर्वेद आपके स्वास्थ्य को स्वाभाविक रूप से सुधारने के लिए गुर्दे की बीमारियों के सभी जोखिम कारकों को रोकने में मदद करता है। किडनी की बीमारी को ठीक करने के लिए आयुर्वेद के प्राकृतिक तरीके समस्या को प्रभावी ढंग से दूर करने में मदद करते हैं।

HIIMS, किडनी रोगों के लिए बेहतर विकल्प

HIIMS का यूरोलॉजी और नेफ्रोलॉजी विभाग किडनी की बीमारियों के लिए आयुर्वेदिक देखभाल प्रदान करता है। चाहे हालत गंभीर हो, पुरानी हो या हल्की, आयुर्वेद से आप किडनी के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छी देखभाल प्राप्त कर सकते हैं। आयुर्वेद डॉक्टरों और थेरेपिस्ट की एक विशेषज्ञ टीम की मदद से, आप किडनी की कार्यप्रणाली को ठीक से सुधारने के लिए सर्वोत्तम देखभाल प्राप्त कर सकते हैं।

हमारा लक्ष्य ऐसी सेवाओं की पेशकश करना है जो आपके स्वास्थ्य को अंदर से बाहर तक बढ़ा सकें। तेजी से और प्रभावी रिकवरी के लिए, HIIMS की मजबूत टीम ऐसी सेवाएं प्रदान करती है जो आपके स्वास्थ्य को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के लिए सुरक्षित और गैर-सर्जिकल हैं। किडनी की बीमारियां आजकल बहुत आम हो गई हैं, और किडनी की बीमारियों की हल्की से गंभीर चिंताओं को दूर करने के लिए, आप HIIMSकी आयुर्वेदिक सेवाओं पर भरोसा कर सकते हैं।

किडनी के स्वास्थ्य में सुधार के लिए गैर-सर्जिकल देखभाल की पेशकश करने के लिए हमारे पास विशेष आयुर्वेद उपचारों की तकनीक है। यहां तक कि अगर आप किडनी के संक्रमण, किडनी की पुरानी बीमारी, या किडनी की विफलता से जूझ रहे हैं, तो भी आप स्वाभाविक रूप HIIMS में हर समस्या के लिए उत्कृष्ट देखभाल प्राप्त कर सकते हैं। हर संकेत और लक्षण को समझकर और स्वास्थ्य रिकॉर्ड के माध्यम से, हम आहार, पंचकर्म चिकित्सा, योग, ध्यान और उचित नींद के माध्यम से कस्टम देखभाल सेवाएं प्रदान करते हैं। प्राकृतिक तरीकों से, हम किडनी से संबंधित हर समस्या के लिए सर्वोत्तम देखभाल प्रदान करते हैं।

Side Effects of Dialysis

Machinery-driven dialysis not only costs you high, but it can also have so many side effects. The patient's body gets dependent on machinery and thus gets weakened with each session. The patient can have many other problems, to, such as:

Insulin Resistance

Insomnia

Depression

Anemia

Bone Disease

Itching

HIIMS में Kidney Failure का इलाज

आपका डायलिसिस करवाने के लिए HiiMS सबसे सुरक्षित और सस्ते तरीकों का उपयोग करता है। हम मरीज के शरीर पर महंगी दवाओं और मशीनों का इस्तेमाल नहीं करते हैं। अधिकांश मरीज़ जो अस्पताल में भर्ती हो जाते हैं और तथाकथित जीवन रक्षक उपकरणों पर निर्भर हो जाते हैं, उनकी जान चली जाती है। इसलिए हम एक गैर-अस्पताल में भर्ती, किफ़ायती और स्वस्थ तरीके का उपयोग करते हैं।

हम आयुर्वेद में विश्वास करते हैं, और हम हमेशा डायलाइज़र और वेंटिलेटर जैसी मशीनों के हानिकारक दुष्प्रभावों से सभी की रक्षा करते हैं। हम पोस्टुरल मेडिसिन का उपयोग करते हैं, जिसमें शरीर मशीनों पर निर्भर हुए बिना अपना डायलिसिस अपने आप करता है।

Why 360° Postural medicine to kidney patients?

Many reasons prove why kidney patients should go for 360° Postural medicine-

  • This method takes less time than machinery based dialysis.
  • It eliminates patients' dependency on machines.
  • Each session of 360° Postural medication improves the patient's kidney health, whereas machinery-based dialysis makes the kidney even weaker.
  • It costs zero, whereas hospitalized treatments cost you thousands.
  • Once learnt this simple technique, it becomes a self-sustainable process for the person.
  • Along with improving kidney health, it offers other health benefits also that support a person's overall health.
  • This method is 100% safe and effective.

Now, let's have a look at what 360° Postural medication looks like. Let's take you through all the safe and effective medication steps.

How we stop dialysis: All about GRAD System- (Gravitational Resistance And Diet System)

Yes, you read it absolutely right, " STOP DIALYSIS". 360° Postural medicine aims to stop dialysis and to improve kidney health. It basically uses the earth's strongest force, the Gravitational force, as medicine. To treat dialysis, we use GRAD System, i.e. Gravitational Resistance And Diet System.

360° Postural medicine includes making a person lay down to certain degrees in specific postures and using gravitational force as a medicine. This doesn't use any machines, devices or ventilators but a person's own body to treat his health problem. The whole process includes various steps that includes:

HWI Therapy

HWI stands for Hot Water Immersion. In this therapy, we use a big tub filled with hot water and the patient is made to sit in that tub. When the patient's body is subjected to being covered up in hot water, within a few minutes, the body starts producing desirable chemicals. The sodium excretion increases five times, potassium excretion increases two times. Also, urine volume increases three times. Thus, the swelling and excessive weight due to accumulated waste in the body gets reduced. The body can flush out excessive waste loaded with toxins, providing relief to the patient. Along with dialysis, HWI Therapy relaxes the body, cures heart disease, hypertension, and diabetes, and improves overall health.

HDT Therapy

HDT stands for Head Down Tilt. In this 360° Postural medication therapy, the patient is made to lie down to certain degrees to make the body self-corrections. The patient is made to lie down at 10 degrees, lifting up his lower body. This leads to an increase in sodium excretion from the body. Thus, it flushes out toxins through urine and sweat. The body's blood pressure decreases. In this way, with the help of HDT Therapy, kidney patients start self-dialysis within a few minutes of being tilted into this position.

DIP Diet

The patient is prescribed to follow a special diet after going through these therapies, which helps in the regeneration of nephrons in his kidney. That means the body will cure itself on its own without any external machinery based support. Putting a person on this special diet increases the patient's metabolic rate and helps in treating kidney's inability to function.This DIP diet helps the patient to recover faster.